हरियाणा इतने ज्यादा मैडल क्यों लाता है?

हरियाणा इतने ज्यादा मैडल क्यों लाता है

हरियाणा, भारत की केवल 2% आबादी यहाँ रहती है। लेकिन पिछले कॉमनवेल्थ में यहां से 33 फीसदी मेडल आए
और इस बार देखें ,यहां से 34 एथलीटों को भेजा गया। हरियाणा इतने ज्यादा मैडल क्यों लाता है जानते हैं इस आर्टिकल में।

जो किसी भी राज्य से सबसे ज्यादा है। यहां से बरस रहा है सोना इस साल 26 जनवरी को हरियाणा की झांकी में। खेल में टीम नंबर वन थी।

सबसे लोकप्रिय एथलीटों में से एक को लें या बॉलीवुड की सबसे लोकप्रिय खेल फिल्में। वे हरियाणा से ताल्लुक रखते हैं।

हरियाणा इतने ज्यादा मैडल क्यों लाता है ?

यह प्रश्न मान्य है, क्या खास है इस मिट्टी में। कि उनमें से कितने अच्छे खिलाड़ी निकल रहे हैं। आइए जानें कि इतने अच्छे एथलीट हरियाणा से क्यों निकलते हैं।

पहला कारण सैन्यीकृत क्षेत्र है। कई विशेषज्ञों द्वारा हरियाणा को भारत का वाटरलू कहा जाता है। महाभारत का कुरुक्षेत्र, इलाके की लड़ाई, पानीपत के सभी 3 युद्ध, करनाल की लड़ाई ये सब हरियाणा में हुआ।

हरियाणा के लोगों का निर्माण हमेशा अच्छा रहा है। संपर्क खेलों में हरियाणा के लोगों को मिलता है इसका लाभ चाहे बॉक्सिंग हो या रेसलिंग। पिछले राष्ट्रमंडल में हरियाणा से मिले पदक 22 में से 15 मेडल बॉक्सिंग और कुश्ती के थे।

कुश्ती का दबदबा-

हरियाणा में कुश्ती का स्पष्ट दबदबा है क्योंकि यहां अखाड़ा संस्कृति है। आपको अपने शहर में किराने की दुकानों से ज्यादा यहां अखाड़े मिल जाएंगे। 2600 से अधिक अखाड़े हैं। जहां 15000 से ज्यादा एथलीट ट्रेनिंग लेते हैं।

इस साल जितने भी पहलवान गए कॉमनवेल्थ अकेले इसी राज्य से हैं। रिजल्ट देखिये, स्वर्ण की बारिश हो रही है।

अगला बड़ा कारण भारतीय सेना का प्रभाव है। भारत में प्रति व्यक्ति सैनिक चयन का औसत 37 है, लेकिन हरियाणा में यह 122 है।

दक्षिण हरियाणा जिले विशेष रूप से नारनौल, भिवानी, रेवाड़ी युवाओं में भारतीय सेना के प्रति दीवानगी है।

भारतीय सेना का खेलों के साथ सम्बन्ध –

अब आप सोच रहे होंगे कि खेलों का भारतीय सेना से क्या संबंध है? इसका बड़ा जुड़ाव है। मिशन ओलंपिक 2001 में शुरू हुआ था ,जब भारतीय सेना पदक लाने में लगी थी।

कुछ राज्यों में सेना के खेल संस्थान स्थापित करने के लिए रक्षा बजट के 60 करोड़ रुपये का इस्तेमाल किया गया था।
जो वर्ल्ड क्लास ट्रेनिंग देते हैं। जो बदले में विश्व स्तर के एथलीट देता है। मेजर ध्यानचंद से लेकर पान सिंह तोमर तक सभी सेना से जुड़े हुए हैं।

नीरज चोपड़ा का ओलंपिक में प्रदर्शन –

नीरज चोपड़ा के बारे में तो आपने सुना ही होगा, वह सेना में जूनियर कमीशंड अधिकारी हैं। यहां तक ​​कि उन्होंने अपना प्रारंभिक प्रशिक्षण सेना संस्थान में भी लिया था।

हरियाणा में सेना के प्रति दीवानगी है और सेना खेलों को बहुत बढ़ावा देती है।
जब दोनों मिलकर स्वर्ण मैडल की बारिश करते हैं।

हरियाणा का खानपान-

अगला बड़ा कारण यह है कि लोग यहां क्या खाते हैं। आप जानते हैं कि 2010 के राष्ट्रमंडल खेलों का सबसे प्रसिद्ध नारा क्या था?
दूध दही का खाणा, अपना देश हरियाणा। यह सही मायने में सच है।

भारत में दूध की खपत में हरियाणा दूसरे नंबर पर आता है। आजादी से पहले हरियाणा की कृषि प्रणाली का कम शोषण किया गया था। मतलब उन्होंने केमिकल नहीं डाला।
शायद कारण यह था कि वहां जमीदारी प्रथा का प्रभाव कम था। जब हरित क्रांति आई तो किसान और भी अमीर हो गए।
उनका भोजन पहले से ही मिलावट से मुक्त था। और जब पैसा आया तो पशुपालन पर निवेश बढ़ गया। राज्य में आहार के प्रति जागरूकता अधिक है।

स्वर्ण मैडल लाने को आर्थिक नजरिये से देखते हैं –

2010 में कॉमनवेल्थ विजेताओं को राज्य के सीएम से पैसा और कार मिली। लेकिन 101 किलो देसी घी भी दिया।
इन कारणों के अलावा राज्य की कुछ नीतियां भी हैं। जो लगातार अपने विकास को गति दे रहा है। राज्य के दो अलग-अलग परीक्षण हैं, दोनों परीक्षणों को पूरे भारत में आईआईटी जी के रूप में मानें।

भारत में होते हैं ऐसे खेल परीक्षण, 20 लाख से ज्यादा छात्र ये टेस्ट देते हैं। इन परीक्षणों के माध्यम से राज्य सरकार कम उम्र में ढूंढती है प्रतिभा और उन्हें कम उम्र से ही ट्रेनिंग देना शुरू कर दें।

उनके पास एक और अभिनव योजना है मड टू मात मड रेसलिंग एक पारंपरिक लोकप्रिय खेल है।
उन्होंने इसे नवाचार के साथ मिलाया है जिससे स्कीवर्ण पदक की बारिश हुई है।

खेलो में भविष्य बनाने की चाह-

अन्य राज्य भी कम उम्र में ही प्रतिभा खोज सकते हैं और उन्हें प्रशिक्षित कर सकते हैं। लेकिन एक बड़ी चुनौती यह आती है कि छात्रों को लगता है कि अगर हमारा करियर सुरक्षित नहीं है तो क्या होगा?
हम खेलों में कैसे जाएंगे?

इससे निपटने के लिए उनके पास एक मजबूत योजना है। वो कहते हैं कांस्य पदक जीतने वाले लोग उन्हें 2.5 से 6 करोड़ दिए जाएंगे। चौथे नंबर पर आ गए तो फिर भी मिलेंगे 50 लाख। अगर आप अभी भी क्वालिफाई करते हैं, तो आपको 15 लाख मिलेंगे। यह राशि बड़ी है

क्योंकि इंडियन ओलिंपिक एसोसिएशन गोल्ड पाने वालों को सिर्फ 75 लाख देता है। और योग्यता के लिए केवल 1 लाख।
ग्रुप सी और डी की नौकरी में 3% आरक्षण के साथ खेल कोटा है और जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कुछ बड़ा करते हैं
ग्रेड ए की नौकरी या पुलिस की नौकरी भी पाएं।

आपको याद है जोगिंदर शर्मा? टी20 फाइनल के हीरो वह अभी हरियाणा में डीएसपी हैं।
मारी छोरियाँ छोरो से कम है के” स्टेडियम के अंदर लड़कियों के लिए 30% आरक्षण है।

लैंगिक समानता की समस्या-

लड़कियों के लिए ऐसी नीतियों के बाद भी प्रशासनिक विफलताओं का सामना करना पड़ता है। एथलीट कहते हैं वादे दिए जाते हैं लेकिन उन्हें पूरा करने में समय लगता है। मनु बेकर, साक्षी मलिक, सोनम मलिक, वीरेंद्र सिंह यादव
ये कुछ एथलीट हैं जो अधूरे वादों को लेकर मुद्दा उठा रहे हैं।

नीति के कागजों पर वादों के पहाड़ तक पहुँचने के लिए
हमें वास्तविकता के आधार पर प्रशासनिक विफलताओं की घाटियों को पार करना होगा।

Leave a Comment